एमपी वर्ग 3 का पेपर हुआ लीक, ऐसा हुआ तो MPTET की परीक्षा हो सकती है रद्द

MPTET Varg 3 Question Paper Leak: मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा MPTET वर्ग 3 की परीक्षा का आयोजन, मध्य प्रदेश के विभिन्न शहरो में करवाया जा रहा है। हजारो युवा इस सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे है, और परीक्षा दे रहे है। लेकिन 25 मार्च को हुए पेपर का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिस अभ्यर्थी ने पेपर के स्क्रीन शॉट की फोटो ट्वीट की है, उसका कहना है ये वही पेपर था, जो वो परीक्षा में देकर आया था। ये पेपर की फोटो ट्रैन में किसी शख्स ने अभ्यर्थी के साथ शेयर की।

अब एक ट्वीट ने इस परीक्षा को शक के दायरे में लेकर खड़ा कर दिया। जिस कारण व्यापम का नाम बदलकर MPPEB किया गया, वही कारण सरकार के सामने फिर आ खड़ा हुआ। जी हाँ, आपको भी ये खबर सुनकर ताज्जुब होगा, कि जिस सरकारी नौकरी की चाह में युवा दिन रात मेहनत करते है, वो परीक्षा भी फर्जीवाड़े का शिकार हो गई। ग्वालियर के एक छात्र के ट्वीट के बाद इस मामले को राजनितिक रंग चढ़ चूका है। अब यदि ये साबित हो जाता है कि पेपर लीक हुआ था, तो MPPEB की अन्य परीक्षा भी शक के दायरे में आ सकती है।

दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार ग्वालियर के मदन मोहन दौहरे ने इस बात का खुलासा किया कि 25 मार्च को जब वो भोपाल शहर से अपना पेपर देकर ग्वालियर लोट रहे थे, तो एक अनजान शख्स ने उनके साथ ये पेपर के स्क्रीन शॉट शेयर किये। जिसमे वो सारे प्रश्न वही थे, जो परीक्षा में पूछे गए थे। यह चिंता का विषय इसलिए भी है क्योकि MPPEB के एग्जाम सेण्टर में मोबाइल ले जाना वर्जित है, ऐसे में ये फोटो मोबाइल में आना फर्जीवाड़े का संकेत है। राजनीती गलियारे में भी इस मुद्दे ने आग पकड़ ली है, अब इसका अंजाम क्या होगा, इस पर सबकी नजर है। आइये सबसे पहले जानते है इस परीक्षा के बारे में जिसके इन दिनों खूब चर्चा है –

MPTET Varg 3 Question Paper Leak
MPTET Varg 3 Question Paper Leak

MPTET Varg 3 Question Paper Leak एक नजर में

संस्था का नाममध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (MPPEB)
परीक्षा का नामMPTET- 2020
पोस्ट नामप्राथमिक शिक्षक
एमपी टीईटी परीक्षा तिथि05 से 26 मार्च 2022
चयन प्रक्रियालिखित परीक्षा
आवेदन मोडऑनलाइन
सरकारी वेबसाइटpeb.mp.gov.in

क्या MPTET की परीक्षा हो सकती है रद्द

यदि इस मुद्दे पर जाँच कमेटी बनी, और ये साबित हो जाता है कि जो पेपर वायरल हुआ है, ये वही है जो परीक्षा में पूछा गया था, तो परीक्षा का रद्द होना तय है। लेकिन यह कोई हल नहीं है, इस तरह हजारो अभ्यर्थियों की मेहनत और पैसे की बर्बादी, किसी भी एंगल से सही नहीं है। पेपर का रद्द होना, फिर परीक्षा का रद्द होना, फिर लम्बे इन्तजार के बाद फिर से पेपर का आयोजन करना, यह किसी भी प्रकार से न्योचित नहीं है। सरकार को इसी जाँच करके दोषियों को कठोर से कठोर सजा देनी चाहिए। अब हम सभी की नजरे इस मुद्दे पर टिकी है।

ये महत्वपूर्ण पोस्ट भी देखें – सरकारी नौकरी

Leave a Reply