GK in Hindi: साइलेंसर में क्या होता है कि तेज आवाज बहुत कम हो जाती है

You are currently viewing GK in Hindi: साइलेंसर में क्या होता है कि तेज आवाज बहुत कम हो जाती है

जब हम अपनी बाइक, कार या कोई भी वाहन चलाते हैं तो उसमें से एक आवाज निकलती है। हम सभी जानते हैं कि यह ध्वनि ईंधन से ऊर्जा उत्पन्न करते समय इंजन में विस्फोट के कारण निकलती है। हम यह भी जानते हैं कि यह आवाज बहुत तेज होती है, लेकिन साइलेंसर लगाने से यह आवाज काफी कम हो जाती है। आइए जानते हैं साइलेंसर में ऐसा क्या होता है जो इंजन की तेज आवाज को काफी कम कर देता है।

कुछ साथियों के लिए यह नई जानकारी हो सकती है। इंजन से जो आवाज निकलती है वह ईंधन से ऊर्जा पैदा करने के दौरान होने वाले विस्फोटों के कारण नहीं होती है, बल्कि एग्जॉस्ट के कारण निकलती है, लेकिन आम बोलचाल की भाषा में लोग यह मान लेते हैं कि वाहन के इंजन से निकलने वाली आवाज, बिल्कुल उसी प्रक्रिया से निकलती है, जैसे किसी आतिशबाजी या बंदूक की गोली से निकलती है।

मोटर व्हीकल एक्ट के अनुसार किसी भी वाहन का शोर 80 डेसिबल से अधिक नहीं होना चाहिए। शोर को नियंत्रित करने में वाहनों के साइलेंसर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ध्वनि तरंगों को साइलेंसर पर अपलोड करने के लिए एक विशेष प्रकार के फाइबरग्लास का उपयोग किया जाता है। यह फाइबरग्लास तेज ध्वनि तरंगों के मार्ग में बाधा डालता है। इससे इसकी गति कम हो जाती है और इसलिए ध्वनि भी कम हो जाती है।

Leave a Reply